10 October 2008

एक निवेदन

वर्षा मेरी दोस्त, मेरा मतलब कुछ टेढ़े किस्म की दोस्त फिलहाल अस्पताल नाम के एक होटल में हैं। उसका आज सुबह कामयाब ओपरेशन हो चुका है। उसे ब्लॉग की दुनिया में लौटने में कुछ वक्त लगेगा। उसके पति और हम दोनों के कोमन दोस्त राजेश डोबरियाल यानि सोत्डू मियां की साजिश के बावजूद कुछ दिन इस ब्लॉग पर मैं वर्षा की दिलचस्पी का ध्यान रखते हुए कुछ अच्छी रचनाएँ खासकर स्त्री विमर्श से जुड़ी चीजें पोस्ट करता रहूँगा। पहली पोस्ट कल डालूँगा।
-धीरेश

5 comments:

कामगार-श्रमिक said...

मैं तो वर्षा के दफ्तर में आने का इंतजार कर रहा हूं. वैसे ठीक ठीक नहीं पता कि वो अचानक कहां और कैसे ऑपरेशन कराने निकल पड़ी.. चलो जो भी मसला रहा हो. सफल शब्द देखकर संतोष हुआ. जल्द ठीक हो जाओ वर्षा

रौशन said...

वर्षा जी के शीघ्र स्वस्थ होने के लिए शुभकामनाएं

अनूप शुक्ल said...

जल्द स्वस्थ होने की दुआ करते हैं।

मीत said...

धीरेश जी! हम इश्वर से प्रार्थना करते हैं की वर्षा जी जल्दी से ठीक हो कर घर आ जाएँ और फिर से हम सब पर इस ब्लॉग के जरिये बरस जाएँ.....

Arvind Mishra said...

शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए शुभकामनाएं !